Saffron Farming केसर सबसे महंगा और सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है जानिए क्यों लोग इसके खेती की ओर आकर्षित होते है कैसे की जाती केसर खेती

Rate this post

Saffron Farming : केसर सबसे महंगा और सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है जानिए क्यों लोग इसके खेती की ओर आकर्षित होते है कैसे की जाती केसर खेती। केसर की खेती (Saffron Farming) करना किसानों के लिए अच्छा कमाने का साधन बन सकता है। केसर की खेती पहले जम्मू कश्मीर के क्षेत्र में इसकी खेती की जाती है लेकिन अब केसर की खेती किसी भी क्षेत्र में हो सकती है। यहां तक कि उत्तरप्रदेश के बुंदेलखंड के क्षेत्र में इसकी खेती होती है।यहां के किसानों के प्रयासों से यह सब संभव हो पाया है।

Saffron Farming केसर सबसे महंगा और सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है जानिए क्यों लोग इसके खेती की ओर आकर्षित होते है कैसे की जाती केसर खेती 

इसमें खास बात ये हैं कि यहां के किसानों ने बंजर जमीन पर केसर की खेती करके दिखा दिया है जिसे कर पाना बहुत कठिन है। यह सब कुछ यहां के किसानों की कुछ हटकर नया करने की जिद और कड़ी मेहनत के बल पर संभव हो पाया है।अब नीमच मंडी जो कि प्रसिद्ध औषधि मंडी मानी जाती है यहां पर केसर की बिक्री होती है।

केसर ठंडी जलवायु की फसल है फिर कैसे हुआ ये संभव

केसर ठंडी जलवायु में उगने वाली फसल है। इसीलिए जम्मू-कश्मीर में इसकी खेती बहुत अधिक होती है। लेकिन बुंदेलखंड की जलवायु जम्मू-कश्मीर के मुकाबले गर्म है। इस लिहाज से देखा जाए तो बुंदेलखंड में इसकी खेती को कर पाना अपने आप में चौंकाने वाली खबर है। लेकिन यहां के किसानों ने इसे उगाकर ही दम लिया।

इस संबंध में बुंदेलखंड के एक किसान बताते हैं कि केसर सिर्फ वादियों में ही नहीं उग सकता बल्कि इसको ठंडे इलाके की बजाय थोड़े गर्म इलाके में भी उगाया जा सकता है लेकिन बस शर्त यह है की एक दिन में आपको इसकी फसल में 4 से 5 बार पानी डालना होगा।

Saffron Farming केसर सबसे महंगा और सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है जानिए क्यों लोग इसके खेती की ओर आकर्षित होते है कैसे की जाती केसर खेती 

केसर की किस्में

केसर का पौधा सुगंध देनेवाला बहुवर्षीय होता है और क्षुप 15 से 25 सेमी (आधा गज) ऊंचा, परंतु कांडहीन होता है। इसमें घास की तरह लंबे, पतले व नोकदार पत्ते निकलते हैं। जो संकरी, लंबी और नालीदार होती हैं। इनके बीच से पुष्पदंड निकलता है, जिस पर नीललोहित वर्ण के एकांकी अथवा एकाधिक पुष्प होते हैं। अप्रजायी होने की वजह से इसमें बीज नहीं पाए जाते हैं। इसके पुष्प की शुष्क कुक्षियों को केसर, कुंकुम, जाफरान अथवा सैफ्रन कहते हैं।

इसमें अकेले या 2 से 3 की संख्या में फूल निकलते हैं। इसके फूलों का रंग बैंगनी, नीला एवं सफेद होता है। ये फूल कीपनुमा आकार के होते हैं। इनके भीतर लाल या नारंगी रंग के तीन मादा भाग पाए जाते हैं। इस मादा भाग को वर्तिका (तन्तु) एवं वर्तिकाग्र कहते हैं। यही केसर कहलाता है।

केसर के लिए कैसी होनी चाहिए मिट्टी

केसर की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी वह जलभराव का खेत नहीं होना चाहिए. केसर के खेत में जलभराव होने से कंद हरने लगता है और पौधे सूखने लगते हैं। इसकी खेती के लिए हल्की सिंचाई की जरूरत होती है लेकिन सिंचाई के समय जल का भराव नहीं होनी चाहिए।

Saffron Farming केसर सबसे महंगा और सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है जानिए क्यों लोग इसके खेती की ओर आकर्षित होते है कैसे की जाती केसर खेती 

यह भी पढ़े –

Tea Farming क्या आपको पता है सिर्फ चाय पत्ती की खेती करके बन सकते है आप लखपति जानिए इसकी खेती की पूरी जानकारी

Tulsi farming जानिए तुलसी की उन्नत किस्में और तुलसी की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी, जलवायु औऱ तापमान एवं कमाए लाखो रूपये

Ashwagandha Farming क्या आपको पता है अश्वगंधा की खेती कर किसान आज के समय में मोटी कमाई कमा सकते है

Avocado Farming क्या आपके इस फल के बारे में सुना है यह एक विदेशी फल है जो बहुत मुनाफा देता है जानिए इसकी खेती के बारे में

Saffron Farming केसर सबसे महंगा और सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है जानिए क्यों लोग इसके खेती की ओर आकर्षित होते है कैसे की जाती केसर खेती 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button